ताज़ा तरीन

वह अपने घर में प्रवासिनी

वह अपने घर में प्रवासिनी

क्या है भारत माता? क्या है अपना भारत? पंडित नेहरू की पुण्यतिथि पर राजेन्द्र भट्ट की आज के संदर्भ में प्रासंगिक श्रद्धांजलि आज 27 मई है – पंडित नेहरू की पुण्यतिथि! आधुनिक भारत के निर्माता!  हालांकि उस भारत को, जिसके होने को ही – ‘आइडिया ऑफ इंडिया’ को आज जैसे ग्रहण ने थोड़ा ढक लिया है […] Read more

वन रोड वन बेल्ट के साइड इफेक्ट

वन रोड वन बेल्ट के साइड इफेक्ट

प्रमोद साह यूं तो भारत और चीन के मध्य दुर्गम और विस्तृत खुली सीमा 3484 कि .मी. की है जिसमें रोज ही सीमा का दो तरफा उल्लंघन होता ही रहता है ।जिनका समाधान या तो बॉर्डर मैनेजमेंट कमेटी अथवा सैन्य अधिकारियों की फ्लैग मीटिंग कर लेती है । लेकिन पिछले सप्ताह चार महत्वपूर्ण स्थानों पर […] Read more

सम्पादकीय

‘कोरोना’ वायरस से खतरनाक है ये वायरस

‘कोरोना’ वायरस से खतरनाक है ये वायरस

एक वायरस ‘कोरोना’ ने पूरी दुनिया को आतंकित कर दिया है। दूसरा एक वायरस जम्बूद्वीप भरतखंड आर्यावर्त में फैला है हिन्दुत्व और अंधराष्ट्रवाद का, जिसने देश की सामाजिक समरसता को तार-तार कर दिया है। कोरोना के वायरस का शायद जल्दी कोई इलाज मिल जाये, मगर इस दूसरे वायरस का असर दशकों तक रहेगा। देश की […] Read more

भाजपा की जबर्दस्त कामयाबी है सी.ए.ए. और एन.आर.सी.

भाजपा की जबर्दस्त कामयाबी है सी.ए.ए. और एन.आर.सी.

राजीव लोचन साह सी.ए.ए. और एन.आर.सी. को लेकर विवाद और प्रदर्शनों का सिलसिला जारी है। इसके विरोध में हो रहे प्रदर्शनों में मुसलमानों की जबर्दस्त भागीदारी ने साबित किया है कि पिछले कुछ सालों से उन्हें नीचा दिखाने और दूसरे दर्जे का नागरिक बनाने की जिस लगातार कोशिश को वे अनदेखा कर रहे थे, उसे […] Read more

आशल कुशल

देश दुनिया

जातिवाद और छुआ-छूत की जड़ें आज भी समाज में गहरी धंसी हैं

जातिवाद और छुआ-छूत की जड़ें आज भी समाज में गहरी धंसी हैं

 कमलेश जोशी   छुआ-छूत को लेकर नैनीताल जिले के ओखलकांडा ब्लॉक में घटित घटना के बारे में सुनकर 90 के दशक का एक वाकया याद आ रहा है. उत्तराखंड (तब के उत्त... Read more

“दुनिया देख कर आये हैं “

संजीव भगत यह प्रचलित मुहावरा है। देश के कोने-कोने से प्रवासी लोग वापस आ रहे हैं तो उन्होंने बाहर की दुनिया देखी है,जिन्दगी की तमाम तकलीफ़ों और सुख सुव... Read more

किताबें

घुघूती बासूती : बच्चों के लिए अद्भुत उपहार

घुघूती बासूती : बच्चों के लिए अद्भुत उपहार

देवेश जोशी अगर कोई मुझे पूछे कि बच्चों के गीतों और प्रौढ़ों की कविताओं में क्या अंतर होता है तो मैं कहूंगा, वही जो किसी पहाड़ी स्रोत के जल और आर.ओ.के प... Read more

पुस्तक समीक्षा : लच्छी

पुस्तक समीक्षा : लच्छी

    शंभू राणा ‘लच्छी’ भूमिका जोशी का इसी वर्ष प्रकाशित उपन्यास है. वाणी प्रकाशन से छपा यह उपन्यास एक घर, उसके वाशिन्दों और एक शहर की कहानी... Read more

साहित्य और संस्कृति

वह अपने घर में प्रवासिनी

वह अपने घर में प्रवासिनी

क्या है भारत माता? क्या है अपना भारत? पंडित नेहरू की पुण्यतिथि पर राजेन्द्र भट्ट की आज के संदर्भ में प्रासंगिक श्रद्धांजलि आज 27 मई है – पंडित नेहरू क... Read more

25 मई को पुण्य तिथि पर : शिखरों में आज भी गूँजते हैं नईमा खान उप्रेती के गीत

25 मई को पुण्य तिथि पर : शिखरों में आज भी गूँजते हैं नईमा खान उप्रेती के गीत

चन्द्रशेखर तिवारी सत्तर के दशक में लखनऊ के आकाशवाणी केन्द्र से पर्वतीय इलाके के लोगों लिए एक कार्यक्रम प्रसारित होता था उत्तरायण। यह कार्यक्रम तकरीबन... Read more

पर्यावरण

महामारियाँ रोकनी हैं , तो जैवविविधता बचाइए !

महामारियाँ रोकनी हैं , तो जैवविविधता बचाइए !

स्कन्द शुक्ला जानवरों के प्रति तीन मनोभावनाएँ रखने वाले लोग हैं। पहले वे जो इनसे प्रेम करते हैं। दूसरे वे जो इनसे डरते हैं। तीसरे वे जो इनके प्रति तटस... Read more

उत्तराखंड कृषि :एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारो

उत्तराखंड कृषि :एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारो

 प्रमोद साह    कहते हैं कि समस्याएं समाधान लेकर आती हैं और समस्या संकट के साथ आती है तो वह नए रास्ते भी बनाती है . कोरोना काल उत्तराखंड कृषि के विकास... Read more

All rights reserved www.nainitalsamachar.org