ताज़ा तरीन

 ऐसे कैसे चले गए शेरदा ?

 ऐसे कैसे चले गए शेरदा ?

दिवा भट्ट अविश्वसनीय जैसा लगता है कि डॉक्टर शेर सिंह बिष्ट नहीं रहे,  लेकिन यह समय ऐसा आया है कि ऐसी अनेक अविश्वसनीय सूचनाएं लगातार आ रही हैं और हमारी संvवेदना को झकझोरती हुई अपने सच होने के प्रमाण भी देती जारही हैं। प्रोफेसर शेर सिंह बिष्ट लगभग चार दशक तक कुमाऊं विश्वविद्यालय में अध्यापन […] Read more

अलविदा बच्ची दा

अलविदा बच्ची दा

प्रमोद साह श्री बची सिंह रावत जी उन चन्द लोगों में शामिल थे जिन के संसर्ग में रहकर हमने समाज को देखने की थोड़ा समझ विकसित की। यह वर्ष 1987 की बात थी जब ब्लाक प्रमुख का चुनाव था। श्री बच्ची सिंह रावत जी ताड़ीखेत ब्लाक से प्रमुख के उम्मीदवार थे। उन दिनों सभी स्थानों […] Read more

सम्पादकीय

देश के पाँच राज्यों में विधानसभा चुनाव

देश के पाँच राज्यों में विधानसभा चुनाव

राजीव लोचन साह देश के पाँच राज्यों में विधानसभा के चुनाव होने जा रहे हैं। इनमें तीन प्रान्त, केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी, दक्षिण में हैं तो पश्चिमी बंगाल और असम देश के पूर्व और पूर्वोत्तर में। मगर आश्चर्य की बात यह है कि अखबारों को देखें तो इन पाँच प्रदेशों में से सिर्फ प. बंगाल […] Read more

देश में हड़तालों का दौर है

देश में हड़तालों का दौर है

राजीव लोचन साह देश में हड़तालों का दौर शुरू हो गया है। चार महीने से राजधानी दिल्ली के बॉर्डर पर बैठे किसानों के आन्दोलन का अभी कोई समाधान नहीं निकला है, बावजूद इस तथ्य के कि इस दौरान लगभग तीन सौ आन्दोलनकारी शहीद हो गये हैं। विवश होकर अब इन किसानों को पाँच राज्यों, जहाँ […] Read more

आशल कुशल

देश दुनिया

10वीं की परीक्षा : पुनर्विचार करे सरकार

10वीं की परीक्षा : पुनर्विचार करे सरकार

सुशील उपाध्याय दसवीं की परीक्षा रद्द करने के केंद्र सरकार के निर्णय पर पुनर्विचार किए जाने की जरूरत है। यह निर्णय ठीक वैसा ही है, जैसे कि पूरे देश में... Read more

भारत में दलित चेतना, अम्बेडकर से पहले और अंबेडकर के बाद

भारत में दलित चेतना, अम्बेडकर से पहले और अंबेडकर के बाद

प्रमोद साह इस वर्ष नवरात्र के मध्य भीमराव अंबेडकर की जयंती है। जब सोचता हूं तो पाता हूं बाबा साहब का योगदान भारत के समाज के निर्माण में किसी देवी-देवत... Read more

किताबें

पुस्तक समीक्षा

पुस्तक समीक्षा

प्रदीप पाण्डे ‘मेरा ओलियागांव ’ अतीत की यादें ही रह जाती हैं और अपनी किताब ‘मेरा ओलियागांव ’ के माध्यम से हिंदी के ख्यातनाम साहित्यकार शेख... Read more

नाटक में टिहरी क्रांति की कथा

नाटक में टिहरी क्रांति की कथा

दिनेश उपाध्याय किताब के जिल्द का पार्श्व काला है जिस पर लाल अक्षरों से किताब का नाम लिखा है ‘मुखजात्रा‘। लम्बे समय बाद एक ऐसी किताब पढ़ने को मिली जिसे... Read more

साहित्य और संस्कृति

कुछ अतिरिक्त पंक्तियाँ : 'पहल’ का आख़िरी अंक

कुछ अतिरिक्त पंक्तियाँ : ‘पहल’ का आख़िरी अंक

ज्ञानरंजन ‘पहल’ का अंक 125 हमारी और उसकी यात्रा का अब आख़िरी अंक होगा। अभी तक यह ख़बर अफ़वाहों में थी जो सच निकली। यह निर्णय हमारे और ‘पहल’ स... Read more

कुछ पंक्तियां :  'पहल’ का अंतिम अंक

कुछ पंक्तियां : ‘पहल’ का अंतिम अंक

राजकुमार केसवानी दोस्तों, यह ‘पहल’ का अंतिम अंक है। इस एक वाक्य को लिखने के लिए जितने साहस की आवश्यकता थी, उसे जुटाने में कई माह लग गए। इससे आगे... Read more

पर्यावरण

हरे पेड़ों का अवैध कटान

हरे पेड़ों का अवैध कटान

महिपाल नेगी, साहब सिहं सजवाण, अरण्य रंजन उत्तराखंड में उत्तरकाशी जनपद के अंतर्गत उत्तरकाशी वन प्रभाग के सेम मुखेम रेंज के वयाली के जंगल में रई और मुरे... Read more

ये आग तो बुझ जायेगी, मगर सवाल तो सुलगते रहेंगे !

ये आग तो बुझ जायेगी, मगर सवाल तो सुलगते रहेंगे !

विनोद पाण्डे इस साल जनवरी के महीने ही से उत्तराखण्ड के अधिकांश जंगल जलने लग गये थे। ये हालत जंगल की बदहाली को बयान कर रहे थे, पर जंगलात इस आड़ में छुपत... Read more

All rights reserved www.nainitalsamachar.org