विशेष

ताज़ा तरीन

सीवर में एक एक कर पांच मज़दूर उतरे और फिर ज़िंदा नहीं लौटेः

सीवर में एक एक कर पांच मज़दूर उतरे और फिर ज़िंदा नहीं लौटेः

विनीत खरे विजय राय, शिवकुमार राय, दामोदर, होरिल साद, संजीत साद ये वो पांच नाम हैं जो सीवर के अंधेरे में हमेशा के लिए खो गए. स्थानीय लोगों के लिए ये चेहरे अंजान थे. किसी को पता भी नहीं था कि ये आख़िर रहते कहां थे. इन सभी का परिवार हज़ारों किलोमीटर दूर बिहार के […] Read more

हर दिल अज़ीज, डॉ. उमाशंकर थपलियाल 'समदर्शी' जन्मदिन पर

हर दिल अज़ीज, डॉ. उमाशंकर थपलियाल ‘समदर्शी’ जन्मदिन पर

डॉ. उमाशंकर थपलियाल ‘समदर्शी’ खुशनुमा व्यक्तित्व, जीवन की जकड़ता से दूर, ‘जीवन चलने का नाम, चलते रहो सुबह और शाम’ की तर्ज पर हर समय गतिशील एवं ऊर्जावान, जीवन के 75वें पायदान पर दुनिया से हमेशा के लिए मुक्त हुए। परन्तु जीवन को अलविदा कहने के क्षण तक बुलन्द हौसला लिए अभी बहुत कुछ करना […] Read more

सम्पादकीय

पाठ्यक्रम में पढ़ायें जायें हरेला और काले कव्वा

पाठ्यक्रम में पढ़ायें जायें हरेला और काले कव्वा

राजीव लोचन साह श्रावण मास की संक्रान्ति को उत्तराखंड, विशेषकर कुमाऊँ में परम्परागत रूप ‘हरेला पर्व’ मनाया जाता है। न जाने कब से। अब ‘पर्यावरण’ शब्द के आविष्कार के बाद तो इसे पर्यावरण से जोड़ा जाने लगा है और वृक्षारोपण जैसे सरकारी अनुष्ठान भी किये जाने लगे हैं। हरीश रावत की पिछली कांग्रेस सरकार ने […] Read more

वन नेशन, वन इलैक्शन

वन नेशन, वन इलैक्शन

राजीव लोचन साह निःसन्देह इक्कीसवीं सदी के भारत में नरेन्द्र मोदी सबसे चमत्कारी राजनेता हैं। उनसे असहमत हुआ जा सकता है, मगर इस तथ्य को नकारा नहीं जा सकता कि वे जो कुछ कहते हैं, वह तत्काल केन्द्रीय मुद्दा बन कर देश में चर्चा का विषय हो जाता है। दूसरी बार सत्ता में आने पर […] Read more

आशल कुशल

देश दुनिया

अब कम आती हैं चिट्ठियां, डाक टिकटों की बिक्री में 78 फीसदी से ज्यादा की गिरावट

अब कम आती हैं चिट्ठियां, डाक टिकटों की बिक्री में 78 फीसदी से ज्यादा की गिरावट

आरटीआई के तहत मिली जानकारी के मुताबिक डाक विभाग ने साल 2017-18 में डाक टिकट बेचकर 366.69 करोड़ रुपये कमाए थे. लेकिन साल 2018-19 में ये राशि पिछले साल क... Read more

कश्मीर जैसी बेहद महत्वपूर्ण और प्रशंसित पुस्तक के लेखक अशोक कुमार पाण्डेय की टिप्पणी

कश्मीर जैसी बेहद महत्वपूर्ण और प्रशंसित पुस्तक के लेखक अशोक कुमार पाण्डेय की टिप्पणी

अशोक कुमार पाण्डेय कश्मीर की एक यात्रा में मुझसे बात करते हुए एक कश्मीरी मित्र ने कहा था कि अगर सब ठीकठाक होता तो बहुत पहले ख़ुद कश्मीरी ही मांग कर चुक... Read more

किताबें

समीक्षा : अतीत और वर्तमान की गहरी पड़ताल

समीक्षा : अतीत और वर्तमान की गहरी पड़ताल

डाॅ. कपिलेश भोज उŸाराखण्ड के जाने-माने इतिहासविद् और लेखक ताराचन्द्र त्रिपाठी (जन्म: 24 जनवरी, सन् 1940) की-सन् 1998 में राजकीय इण्टर काॅलेज, नैनीताल... Read more

“एका” किसान आन्दोलन और आजादी की लड़ाई में वर्ग हितों की टकराहट का दस्तावेज

“एका” किसान आन्दोलन और आजादी की लड़ाई में वर्ग हितों की टकराहट का दस्तावेज

पुरुषोत्तम शर्मा पुस्तक समीक्षा 1920 से 1928 के बीच अवध के दो महान किसान नेताओं बाबा रामचंद्र और मदारी पासी के नेतृत्व में चले किसान संघर्षों के बारे... Read more

साहित्य और संस्कृति

हर दिल अज़ीज, डॉ. उमाशंकर थपलियाल 'समदर्शी' जन्मदिन पर

हर दिल अज़ीज, डॉ. उमाशंकर थपलियाल ‘समदर्शी’ जन्मदिन पर

डॉ. उमाशंकर थपलियाल ‘समदर्शी’ खुशनुमा व्यक्तित्व, जीवन की जकड़ता से दूर, ‘जीवन चलने का नाम, चलते रहो सुबह और शाम’ की तर्ज पर हर समय गतिशील एवं ऊर... Read more

हिमालय का सुकुमार कवि

हिमालय का सुकुमार कवि

देवेश जोशी उत्तराखण्ड की मंदाकिनी-उपत्यका में आज से ठीक सौ साल पहले एक कवि जन्मा था जो सही मायने में हिमालय का सुकुमार कवि था। अल्पायु और छायावाद को अ... Read more

पर्यावरण

उत्तराखंड में एक रात में तीन जगह फटे बादल, भारी नुकसान की आशंका

उत्तराखंड में एक रात में तीन जगह फटे बादल, भारी नुकसान की आशंका

त्रिलोचन भट्ट उत्तराखंड में एक ही रात में तीन जगहों पर बादल फटने की घटनाओं से भारी नुकसान हुआ है। चमोली जिले के थराली में मां-बेटी की मौत हो गई। उधर ट... Read more

उत्तराखंड: इस बार पहाड़ों में चश्मे भी नहीं फूटे , 500 जलस्रोत सूखने की कगार पर

उत्तराखंड: इस बार पहाड़ों में चश्मे भी नहीं फूटे , 500 जलस्रोत सूखने की कगार पर

त्रिलोचन भटृ कम बरसात के कारण उत्तराखंड में अब तक चश्मे नहीं फूटे हैं, वहीं पूरे राज्य में जल स्त्रोत तेजी से सूख रहे हैं टिहरी जनपद के सेम मुखेम में... Read more

All rights reserved www.nainitalsamachar.org