ताज़ा तरीन

प्रो. डी.डी पन्त मेरी दृ​ष्टि में .....

प्रो. डी.डी पन्त मेरी दृ​ष्टि में …..

एस पी  सिंह जीवन में विभिन्न अवस्थाओं में मैं प्रोफ. डी. डी. पन्त से मिला, उनके साथ रहा और वार्तालाप किया. पहलेपहल मैं उनसे तब मिला जब मैं 6-7 साल का था, फिर जब मैं किशोर था और उसके बाद एक युवा प्राध्यापक के रूप में जब वे डी. एस. बी. कॉलेज नैनीताल के प्रधानाचार्य […] Read more

जीवटता और संघर्ष का प्रतीक था त्रेपन चौहान

जीवटता और संघर्ष का प्रतीक था त्रेपन चौहान

जगमोहन रौतेला उत्तराखण्ड में जनांदोलनों का प्रतीक रहे व चर्चित उपन्यासकार  मित्र त्रेपन सिंह  चौहान का लम्बी बीमारी के बाद आज प्रात: लगभग 6.30 बजे देहरादून के सिनर्जी अस्पताल में निधन हो गया । पिछले लगभग तीन महीने से स्वास्थ्य अधिक खराब होने से त्रेपन अस्पताल में फर्ती था । उसके चाहने वाले सभी मित्र […] Read more

सम्पादकीय

हरेले की चिट्ठी

हरेले की चिट्ठी

स्वस्ती श्री सर्वोपमायोग्य नैनीताल समाचार के प्रिय पाठकगण, आप सपरिवार स्वस्थ होंगे और रहें यह मेरी पहली कामना है। आज जब मैं आपको हरेले की चिठ्ठी में ‘यत्र कुशलम तत्रास्तु’ का शुभ-संदेश लिख रहा हूं तो आपकी कुशलता की कामना से ज्यादा अपने अन्तर्मन के भय से आशंकित हूं। मुझे मालूम है कि आंतरिक भय […] Read more

इस विचित्र बीमारी ने पूरी दुनिया तबाह कर दी

इस विचित्र बीमारी ने पूरी दुनिया तबाह कर दी

 राजीव लोचन साह एक विचित्र बीमारी कोविड 19, ने पूरी दुनिया को तबाह कर दिया है। मगर हम इसे ठीक से समझ भी नहीं पा रहे हैं। मीडिया और सोशल मीडिया के घने कुहासे में हमें कोई रास्ता ही नहीं सूझ रहा है। बड़ा सवाल तो यह है कि तमाम बातें जो हमें बताई जा […] Read more

आशल कुशल

देश दुनिया

बसु राय जैसा बनना होगा अगर समाज में परिवर्तन लाना है

बसु राय जैसा बनना होगा अगर समाज में परिवर्तन लाना है

हिमांशु जोशी भारत में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अंधेरे में रहते हुए भी पूरे देश में उजाला करते रहते हैं। नैनीताल समाचार की वजह से मेरा ऐसे ही एक रत्न से प... Read more

जनाब डर लगता है...

जनाब डर लगता है…

चन्द्रशेखर जोशी कुछ भी बजने से। कूलर की स्पीड फुल थी सो प्रवीण को बुखार आ गया। सुबह सिर दुखे और बदन टूटे, दुकान खोलना मजबूरी थी। शटर उठाते वक्त पड़ोसी... Read more

किताबें

घुघूती बासूती : बच्चों के लिए अद्भुत उपहार

घुघूती बासूती : बच्चों के लिए अद्भुत उपहार

देवेश जोशी अगर कोई मुझे पूछे कि बच्चों के गीतों और प्रौढ़ों की कविताओं में क्या अंतर होता है तो मैं कहूंगा, वही जो किसी पहाड़ी स्रोत के जल और आर.ओ.के प... Read more

पुस्तक समीक्षा : लच्छी

पुस्तक समीक्षा : लच्छी

    शंभू राणा ‘लच्छी’ भूमिका जोशी का इसी वर्ष प्रकाशित उपन्यास है. वाणी प्रकाशन से छपा यह उपन्यास एक घर, उसके वाशिन्दों और एक शहर की कहानी... Read more

साहित्य और संस्कृति

श्रीदेव सुमन : अविस्मरणीय ऐतिहासिक बलिदान !

श्रीदेव सुमन : अविस्मरणीय ऐतिहासिक बलिदान !

प्रमोद साह 25 जुलाई 1944 को अपने आमरण अनशन के 84वे दिन वीर शहीद श्री देव सुमन ने टिहरी जेल में आजादी के महान संकल्प की बलिवेदी पर अपने प्राणों की आहुत... Read more

रूमानी नहीं रौद्र होता है पहाडों का सावन ...

रूमानी नहीं रौद्र होता है पहाडों का सावन …

देवेश जोशी भूगोल न सिर्फ़ खानपान, वेशभूषा, आवास को बल्कि साहित्य को भी प्रभावित करता है। खासकर गीतों को। सावन को ही ले लीजिए। भारत के मैदानी क्षेत्रों... Read more

पर्यावरण

कोरोना, जैव विविधता और पर्यावरण..

कोरोना, जैव विविधता और पर्यावरण..

डॉ. वीर सिंह कोरोना काल में अनेक ऐसे चित्र उभर कर सामने आए हैं जो दर्शाते हैं कि यह आपदा केवल आदमी के हिस्से की है, प्रकृति के लिए तो यह एक वरदान है.... Read more

महामारियाँ रोकनी हैं , तो जैवविविधता बचाइए !

महामारियाँ रोकनी हैं , तो जैवविविधता बचाइए !

स्कन्द शुक्ला जानवरों के प्रति तीन मनोभावनाएँ रखने वाले लोग हैं। पहले वे जो इनसे प्रेम करते हैं। दूसरे वे जो इनसे डरते हैं। तीसरे वे जो इनके प्रति तटस... Read more

All rights reserved www.nainitalsamachar.org