ताज़ा तरीन

पहाड़ के हाल ठीक ही हैं मित्र..!

पहाड़ के हाल ठीक ही हैं मित्र..!

केशव भट्ट प्रिय मित्र, लंबे अर्से बाद आपने फोन पर पूछा लिया कि पहाड़ में लोगों के क्या हालचाल हैं…? अब क्या बताता में उस वक्त.. और आप के पास भी इतना वक्त नहीं हुआ पहाड़ की पीढ़ा सुनने को.. सो सब ठीक हैं कह आपकी बात टाल गया.. वैसे भी आपको पहाड़ से विदा […] Read more

हिमाचल: बागवान किसानों का ज़ोरदार प्रदर्शन, सरकार को दिया दस दिन का अल्टीमेटम

हिमाचल: बागवान किसानों का ज़ोरदार प्रदर्शन, सरकार को दिया दस दिन का अल्टीमेटम

 न्यूजक्लिक रिर्पोट हिमाचल प्रदेश में हज़ारों सेब बागवान किसानों ने शुक्रवार को शिमला मे जोरदार विरोध प्रदर्शन किया। इस ऐतिहासिक विरोध मार्च को देखते हुए सरकार ने किसानों से उनकी मांगों को पूरा करने के लिए दस दिन का समय मांगा है। इस आंदोलन का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मंच ने कहा अगर सरकार […] Read more

सम्पादकीय

हरेला सिर्फ हरियाली का त्यौहार नहीं

हरेला सिर्फ हरियाली का त्यौहार नहीं

राजीव लोचन साह हरेला सिर्फ पेड़ों और हरियाली का त्यौहार नहीं है, यह मनुष्य को पर्यावरण को लेकर संवेदनशील बनाने की एक कोशिश है। इसी तरह मकर संक्रान्ति को मनाया जाने वाला बच्चों का ‘काले कव्वा’ का त्यौहार उन्हें कौवों या पक्षियों से ही नहीं जोड़ता, प्राणिमात्र के प्रति संवेदनशील बनाता है। जब यह त्यौहार […] Read more

उदारीकरण की दौड़ तेज हुई है

उदारीकरण की दौड़ तेज हुई है

राजीव लोचन साह वर्ष 1991 में कांग्रेस की तत्कालीन नरसिंहाराव सरकार ने निजीकरण और आर्थिक उदारीकरण का जो चक्र शुरू किया था, उसने इधर 360 डिग्री की यात्रा पूरी कर ली है। उससे पहले जीवन बड़ा सरल था। पीने का पानी जल सप्लाई की टोंटियों से मिल जाया करता था। सरकारी नौकरियों में पेंशन होती […] Read more

आशल कुशल

देश दुनिया

पहाड़ के हाल ठीक ही हैं मित्र..!

पहाड़ के हाल ठीक ही हैं मित्र..!

केशव भट्ट प्रिय मित्र, लंबे अर्से बाद आपने फोन पर पूछा लिया कि पहाड़ में लोगों के क्या हालचाल हैं…? अब क्या बताता में उस वक्त.. और आप के पास भी इ... Read more

हिमांशु कुमार पर 5 लाख का जुर्माना और भारत का सिस्टम

हिमांशु कुमार पर 5 लाख का जुर्माना और भारत का सिस्टम

अजय असुर  सर्वोच्च न्यायालय ने 2009 के एक मामले में हिमांशु कुमार और बारह अन्य लोगों द्वारा दायर एक रिट याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें छत्तीसगढ़ के स... Read more

किताबें

पचहत्तरवें स्वतंत्रता-दिवस पर एक जरूरी क़िताब

पचहत्तरवें स्वतंत्रता-दिवस पर एक जरूरी क़िताब

राजशेखर पन्त स्वतंत्रता के पचहत्तर वर्ष बाद भी यदि किसी लेखक को अपनी पुस्तक की प्रस्तावना कुछ इस तरह शुरू करनी पड़े- “इस पुस्तक में भारत की वह तस... Read more

कमल जोशी की कविताएं 

कमल जोशी की कविताएं ” खिला रहे वसंत वन “

 डा अतुल शर्मा  कविता संग्रह मिला / कमल जोशी की फोटोग्राफी और ट्रैकिंग याद आ गई / शायद साल भर पहले मैने भाई शेखर पाठक के कहने पर टाउन हॉल देहरादून में... Read more

साहित्य और संस्कृति

पहाड़ों में आज भी है रोपाई की परम्परा

पहाड़ों में आज भी है रोपाई की परम्परा

विनोद पंत आज भले ही हमारे खेत बंजर हो रहे हैं | हम गुणी बानरों की बात कहकर खेती छोड रहे हों पर एक समय वो भी था जब खेती के लिए लोग नौकरी छोडकर घर आ जात... Read more

पुण्यतिथि (20 मई, 2012) पर विशेष : पहाड़ की संवेदनाओं के कवि थे शेरदा 'अनपढ़'

पुण्यतिथि (20 मई, 2012) पर विशेष : पहाड़ की संवेदनाओं के कवि थे शेरदा ‘अनपढ़’

चारू तिवारी मेरी ईजा बग्वालीपोखर इंटर कालेज के दो मंजिले की बड़ी सी खिड़की में बैठकर रेडियो सुनती हुई हम पर नजर रखती थी। हम अपने स्कूल के बड़े से मैदा... Read more

पर्यावरण

विनाश के विरोध में ‘यूरोपीय संघ’

विनाश के विरोध में ‘यूरोपीय संघ’

डॉ. संतोष पाटीदार हम विकास के नाम पर विनाश करते हुए अपनी जीवंत दुनिया को जलवायु परिवर्तन की आग में झौंकने पर आमादा हैं। बदलते मौसमी मिजाज व हर दिन कहर... Read more

उत्तराखंड में टनल पार्किंग हो सकता है विध्वंसक कदम

उत्तराखंड में टनल पार्किंग हो सकता है विध्वंसक कदम

विवेक मिश्रा देश में टनल पार्किंग जैसी सुविधा पहाड़ों पर विकसित करने की शुरुआत उत्तराखंड से हो रही है। इसका मतलब होगा कि ऊंची पहाड़ियों के बीच ऐसी सुर... Read more

All rights reserved www.nainitalsamachar.org