ताज़ा तरीन

किसान आंदोलन..

किसान आंदोलन..

प्रभात डबराल अरे भाई, किसे बेवक़ूफ़ बना रहे हो कि किसान अब जहां चाहे जाकर अपना माल बेच सकता है… कितने किसान हैं जो अपना उत्पाद लेकर चार पाँच सौ किलोमीटर दूर उस बाज़ार में ले जाएँगे जहां ज़्यादा दाम मिल रहा है. वो तो अपने नज़दीक की मंडी में बेचेंगे. सरकार नहीं लेगी तो […] Read more

उम्मीद हमारा सबसे बड़ा फर्ज था

उम्मीद हमारा सबसे बड़ा फर्ज था

अशोक पांडे कहानी 1913 में शुरू होती है. बीस साल का एक उत्साही युवक आल्प्स के पहाड़ी इलाके में यात्रा करने निकलता है. एक दिन वह खुद को बंजर हो चुकी एक उदास घाटी के एक परित्यक्त गाँव में पाता है. चटियल नंगी जमीन पर दूर-दूर तक कहीं एक पेड़ तक देखने को नहीं दिखाई […] Read more

सम्पादकीय

उत्तराखंड के बीस वर्ष

उत्तराखंड के बीस वर्ष

राजीव लोचन साह इस वर्ष जब राज्य बने बीस वर्ष होने जा रहे हैं, उत्तराखंड राज्य आन्दोलनकारी अब कहाँ हैं और उनकी हैसियत क्या है। अपने ढंग के अनोखे जन आन्दोलन, जिसका चरमोत्कर्ष वर्ष 1994 में हुआ था, के बाद उत्तराखंड की जनता अपनी आकांक्षाओं को पूरा करने के लिये अपना एक अलग राज्य लेने […] Read more

हरेले की चिट्ठी

हरेले की चिट्ठी

स्वस्ती श्री सर्वोपमायोग्य नैनीताल समाचार के प्रिय पाठकगण, आप सपरिवार स्वस्थ होंगे और रहें यह मेरी पहली कामना है। आज जब मैं आपको हरेले की चिठ्ठी में ‘यत्र कुशलम तत्रास्तु’ का शुभ-संदेश लिख रहा हूं तो आपकी कुशलता की कामना से ज्यादा अपने अन्तर्मन के भय से आशंकित हूं। मुझे मालूम है कि आंतरिक भय […] Read more

आशल कुशल

देश दुनिया

चाय वाले की कहानी तो ख़्याली पुलाव है, सच्ची कहानी से प्रेरित होईए

चाय वाले की कहानी तो ख़्याली पुलाव है, सच्ची कहानी से प्रेरित होईए

हिमांशु जोशी कोरोना से कई छात्रों का भविष्य अधर में लटक गया तो लाखों लोग बेरोज़गार गए। कितनों ने भविष्य की चिंता करते-करते आत्महत्या कर ली। हमने अपनी प... Read more

18 सितंबर नैनीताल क्लीन अप डे : क्या देश कुछ अनोखा देखेगा !!

18 सितंबर नैनीताल क्लीन अप डे : क्या देश कुछ अनोखा देखेगा !!

हिमांशु जोशी पिछले दो हफ़्ते से कोरोना से लड़ाई करते हुए मेरी कलम ने एक शब्द नही लिखा है। यह किसी पत्रकार के लिए कितना मुश्किल है यह तो वही बता सकता है।... Read more

किताबें

अ स्ट्रीम आफ हिमालयन मेलडी

अ स्ट्रीम आफ हिमालयन मेलडी

देवेश जोशी (नरेन्द्र सिंह नेगी के गीतों का अंग्रेजी अनुवाद) उत्तराखण्ड में जन्मे नरेन्द्र सिंह नेगी ऐसे रचनाकार हैं जिनके सृजन में हिमालय का प्रतिनिधि... Read more

घुघूती बासूती : बच्चों के लिए अद्भुत उपहार

घुघूती बासूती : बच्चों के लिए अद्भुत उपहार

देवेश जोशी अगर कोई मुझे पूछे कि बच्चों के गीतों और प्रौढ़ों की कविताओं में क्या अंतर होता है तो मैं कहूंगा, वही जो किसी पहाड़ी स्रोत के जल और आर.ओ.के प... Read more

साहित्य और संस्कृति

बोली ही तो हमारी पहचान है!

बोली ही तो हमारी पहचान है!

ताराचन्द्र त्रिपाठी कभी­-कभी, जब, में पेट की भाषाओं के दबाव तले दम तोड़ती भाषाओं के बारे में चिन्तन करता हूँ तो मुझे घुटन सी होने लगती है. मुझे लगता ह... Read more

फ़र्ज़ करो ये सारी बातें झूठी हों अफ़साने हों

फ़र्ज़ करो ये सारी बातें झूठी हों अफ़साने हों

 अमित श्रीवास्तव चलन के हिसाब से दूसरे छोर पर कुछ फौरी निष्कर्ष हैं जिन्हें सुनकर पानी के बुलबुलों के बराबर सुकून मिलता है. मैं इन बुलबुलों के पार देख... Read more

पर्यावरण

जाॅलीग्रांट में “विकास“ के लिए पर्यावरण का विनाश...

जाॅलीग्रांट में “विकास“ के लिए पर्यावरण का विनाश…

विनोद पाण्डे उत्तराखण्ड की वन्यजीव सलाहकार परिषद ने 24 नवम्बर को शिवालिक एलीफेंट रिजर्व की अधिसूचना को रद्द कर दिया है। ये एलीफेंट रिजर्व देहरादून, लै... Read more

All rights reserved www.nainitalsamachar.org